Subrahmaṇya Bhāratī: Bhārata sapūta

الغلاف الأمامي
Kshitija Prakāśana, 1967 - 55 من الصفحات
0 مراجعات

من داخل الكتاب

ما يقوله الناس - كتابة مراجعة

لم نعثر على أي مراجعات في الأماكن المعتادة.

المحتويات

القسم 1
القسم 2
القسم 3

عبارات ومصطلحات مألوفة

अंग्रेजी अपना अपनी अपने अब अभाव अमर आओ इन इस उठे उन दिनों उनका उनकी उनके उन्हें उन्होंने उसके एक ऐसे और कभी कयों कर भारती करके करते करने कवि कविता कविताएँ कविताओं कहा कहीं का काम कि किया कुछ कृष्ण के प्रति के लिए को क्या गया गयी गये गीत गीतों जनता जा जाता जीवन जो तक तमिल तमिलनाडू तरह तिलक तुम तो था था है थी थे है दिन दिया दूर देते देश देशभक्ति नहीं है ने पत्रिका पर पास प्रकट प्रकार प्रेयसी फिर बन बने बस बहुत बात बाद भय नहीं भर भारत भारती की भी भेरी मद्रास मधुर मन मित्र में भारती मैं यह या ये रह रहा रहे रूप लगी लगे लेकिन लोग वह वाराणसी वे श्री अरविन्द सब सभी से से भारती स्थान हम हमारा हर ही हुआ हुई हुए थे हूँ हृदय है है हैं हो गये होते होने

معلومات المراجع